Humne Pyar Nahi Ishq Nahi Ibaadat


Kahin Behtar Hai Teri Ameeri Se Muflisi Meri,Chand Sikkon Ki Khaatir Tune Kya Nahi Khoya Hai,Mana Nahi Hai Makhmal Ka Bichhauna Mere Paas,Par Tu Yeh Bataa Kitni Raatein Chain Se Soya Hai

Humne Pyar Nahi Ishq Nahi Ibaadat Ki Hai,
Rasmon Se Riwajon Se Bagawat Ki Hai,
Manga Tha Hum Ne Jise Apni Duaaon Me,
Usi Ne Mujhse Juda Hone Ki Chahat Ki Hai.
हमने प्यार नहीं इश्क नहीं इबादत की है,
रस्मों से रिवाजों से बगावत की है,
माँगा था हमने जिसे अपनी दुआओं में,
उसी ने मुझसे जुदा होने की चाहत की है।

Advertisements

Jiski Aankhon Mein Kati Thi Sadiyan Usne Sadiyon…


Jiski Aankhon Mein Kati Thi Sadiyan,
Usne Sadiyon Ki Judai Di Hai.

जिसकी आँखों में कटी थी सदियाँ,
उसने सदियों की जुदाई दी है।